कांग्रेस में मुख्यमंत्रियों की भरमार, 8 क्षेत्रों में अलग-अलग सीएम- राजनाथ सिंह

कांग्रेस में मुख्यमंत्रियों की भरमार, 8 क्षेत्रों में अलग-अलग सीएम

 

कांग्रेस में मुख्यमंत्रियों की भरमार, 8 क्षेत्रों में अलग-अलग सीएम
कांग्रेस में मुख्यमंत्रियों की भरमार, 8 क्षेत्रों में अलग-अलग सीएम

ग्वालियर। केंद्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी में मुख्यमंत्रियों की भरमार है। उनके आठ क्षेत्रों में अलग-अलग आठ मुख्यमंत्री हैं। उनकी पार्टी अब तक एक चेहरा तय नहीं कर पाई है। ऐसे में वे मध्यप्रदेश की जनता से किए गए वादे कैसे पूरे करेंगे। वे प्रदेश की जनता से झूठे वादे कर रहे हैं। केंद्रीय गृहमंत्री ग्वालियर में पार्टी प्रत्याशी जयभान सिंह पवैया के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

केंद्रीय मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पार्टी में मुख्यमंत्री पद के कई दावेदार हैं। यदि छिंदवाड़ा में जाओ तो वहां पर कमलनाथ मुख्यमंत्री हैं, गुना जाओ तो वहां ज्योतिरादित्य सिंधिया हैं, राघौगढ़ जाओ तो वहां पर दिग्विजय सिंह हैं, झाबुआ चले जाओ तो वहां कांतिलाल भूरिया हैं, भोपाल चले जाओ तो सुरेश पचैरी मुख्यमंत्री हैं और विंध्य में चले जाओ तो अजयसिंह मुख्यमंत्री हैं। यदि कांग्रेस अपना चेहरा तय कर दे तो कांग्रेस के कई नेता पार्टी छोड़ देंगे।

केंद्रीय मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि राजनीति जैसे हाथों में जाती है वह वैसी ही बन जाती है। उन्होंने कहा कि जब ये राजनीति मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम जैसे लोगों के हाथ में जाती है तो भक्ति बन जाती है और भगवान श्रीकृष्ण के हाथों में जाती है तो युक्ति बन जाती है। जब ये राजनीति महात्मा गांधी और नेताजी सुभाषचंद्र बोस जैसे महान लोगों के हाथों में जाती हैतो शक्ति बन जाती है। अशफाक, भगत सिंहआजाद जैसे वीरों के हाथों में जाती हैतो मुक्ति बन जाती है। लेकिन जब ये राजनीति भ्रष्ट नेताओं के हाथों में जाती हैतो सम्पत्ति और विपत्ति बन जाती है। इसलिए ईमानदारी पर चलकर विकास करने वाली सरकारों को चुनें।

भाजपा सरकार ने सात गुना बढ़ाई जीडीपीः केंद्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने प्रदेश सरकार के कामों को गिनाते हुए कहा कि जिस मध्यप्रदेश में वर्ष 2003 में प्रति व्यक्ति आय 15 हजार रूपए थीअब उसी मध्यप्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 80 हजार रूपए हो गई है। राज्य की जीडीपी भी सात गुना तक बढ़ गई

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *